कब्ज का कारण लक्षण और इलाज

कब्ज का कारण लक्षण और इलाज

loading...

कब्ज का कारण लक्षण और इलाज

कब्ज | Constipation

कब्ज को इंग्लिश में Constipation कहते हैं। यह बीमारी हमारे पाचन तंत्र से सीधा संबंध रखती है। जब भी किसी व्यक्ति को यह कब्ज की बीमारी होती है तो इसका प्रभाव सीधे रोगी के मल पर पड़ता है। जब भी रोगी मल त्याग करने के लिए जाता है तो उसे मल त्याग करने में बहुत कठिनाई होती है। कब्ज की बीमारी अमाशय की स्वाभाविक परिवर्तन की वह अवस्था है, जिसमें रोगी के मल निष्कासन की मात्रा कम हो जाती है, और मल कड़ा हो जाता है, मॉल त्यागने की आवृति घट जाती है या मल निष्कासन के समय रोगी को अत्यधिक बल का प्रयोग करना पड़ता है।

कब्ज होना कोई मामूली बात नहीं होती है, इसलिए इसे रोग को कभी अनदेखा नहीं करना चाहिए क्योंकि यह हमारे शरीर में कई अन्य घातक बीमारियां पैदा कर सकता है। जेसे के बवासीर, पित्त, आदि| आयुर्वेद के अनुसार हमारे शरीर मे जितने प्रकार के भी रोग होते है वो त्रिदोष यानि के: वात, पित्त, कफ के बिगड़ने से ही होते है। तो जितना हो सके हमे इन तीनो को ठीक रखना चाहिए। कब्ज का आयुर्वेद में बहुत ही अच्छा इलाज है।

Click here to read:-  10 Symptoms and Natural Treatment of Piles | Hemorrhoids

कब्ज के कारण (Reasons of Constipation In Hindi) :

  1. मलत्याग में | in Passing Stool:

जब भी आपको मलत्याग करना होता है तब आप शौचालय नहीं जा पाते हैं जिसकी वजह से मल कड़ा हो जाता है और इसी वजह से आपको कब्ज की समस्या उत्तपन होती है।

  1. तरल पदार्थ | Liquid Diet:

जब कोई इंसान दिनभर में बहुत ही कम मात्रा में तरल पदार्थ लेता हैं तो भी मल में पानी की मात्रा होने कम हो जाती है जिसकी वजह से भी मल कड़ा हो जाता है। शरीर में पानी की कमी का होना इसका सबसे मुख्य कारण है|

  1. निष्क्रिय रहना | Inactive:

जब भी आप अधिक समय तक निष्क्रिय यानि के कोई शरीर को हिलाने डुलाने वाला काम नहीं करते हैं तो आपको खाना पचाने में तकलीफ होती है जिससे कब्ज की समस्या उत्तपन हो सकती है।

  1. भोजन से | Food :

आज के समय में लोग फट वाला और ज्यादा मीठा भोजन करना पसंद करते हैं (जो के बहुत ही गलत बात है) जिसमें पानी और रेशे की मात्रा बहुत कम होती है इस वजह से भी लोगो में कब्ज जैसी समस्या हो सकती है, जो के सही इलाज न करवाने गंभीर भी हो सकती है। जब लोग अधिक नशीली चीजों जैसे –सिगरेट,तंबाकू, शराब आदि का अत्यधिक सेवन करते हैं या चाय और कॉफी का अत्याधिल सेवन करते हैं तो उनमे कब्ज की समस्या उत्तपन हो जाती है।

  1. दवाईयों से | Medicine :

जब भी कोई इंसान बीमार होता है तो उसे करी प्रकार की दवाईयां खुद को ठीक करने के लिए खानी पडती हैं, जिसकी अधिकता से भी रोगी में कब्ज की समस्या हो सकती है क्योंकि दवाईयों की अधिकता से भी रोगी का मल कड़ा हो जाता है।

  1. समस्याओं से | other Problems :

कब्ज बहुत सी समस्याओं से हो सकता है जैसे के किसी भी तरह का शारिरिक श्रम या काम न करना, रात में देर तक जागना, आदि से भी कब्ज की समस्या उत्तपन हो सकती है।

  1. मानसिक रोगों से | Mental Stress :

जब भी कोई इंसान चिंता, दुःख, डर, तनाव, क्रोध, शोक, सोच या विचार अधिक करता हैं तब भी आपको कब्ज की समस्या उत्तपन हो सकती है।

  1. असमय भोजन | No Particular Timing of Diet :

जब कोई इंसान सही समय पर खाना नहीं खाता है या फिर बिना किसी पक्के समय के भोजन करता है तो ऐसे में भी कब्ज की समस्या उत्तपन हो सकती है।

  1. मधुमेह के कारण | Diabetes :

अक्सर जिन लोगों को मधुमेह की प्रॉब्लम होती है उन्हें भी कब्ज की समस्या आसानी हो सकती है क्योंकि उन लोगों में भी पाचन से जुडी हुई कई प्रकार की समस्याएं होती हैं।

  1. अपौष्टिकता से | Less Nutrition’s in Diet :

कभी-कभी लोगो को कब्ज की समस्या शरीर में पोटैशियम और कैल्शियम की मात्रा कम हो जाने से भी हो जाती है।

Click here to read:-  Ways to Get Rid of 5 Types of Regular Health Issues

  1. काम न करना | Not Doing Physical Work :

बहुत से लोग जो के कब्ज के शिकार होते हैं वो ज्यादातर वो लोग होते है जो कम काम करते हैं और किसी भी प्रकार का श्रम या व्यायाम भी नहीं करते हैं, और वही वजह कब्ज का कारण बनती है| 

  1. देर से सोना | Late Night Sleep :

आज के वक़्त में लोग रात के समय खाना भी देर से खाते हैं और कई बार तो खाना लेटकर खाते है (साइड पोस लेकर) और असमय सोना भी कब्ज की वजह बन जाती है|

कब्ज के लक्षण | Symptoms of Constipation

  1. पेट में भराव | Feeling Full :

कभी-कभी ऐसा होता है के लोग मलत्याग करते हैं फिर भी उन्हें ऐसा लगता है कि उनकी अंतड़ियाँ पूरी तरह से खाली नहीं हुई हैं तो उन्हें कब्ज की बीमारी हो सकती है।

  1. मल त्याग में जोर | Problem in Stool Passing :

जब भोजन में पानी की मात्रा कम हो जाती है तो मल भी धीरे-धीरे कड़ा हो जाता है और मलत्याग भी आसानी से नहीं हो पाता है। ऐसे में मलत्याग करने में काफी जोर लगाना पड़ता है और ऐसे में बहुत तकलीफ होती है।

  1. पेट में समस्या | Stomach Problem :

जब भी आपको पेट में ऐंठन हो या दर्द हो या फिर पेट फूल जाये या मतली हो तो समझ ले के आपको कब्ज की परेशानी हो सकती है।

  1. समस्याएं | Problems :

जब भी आपको सिर दर्द, शौच साफ न होना, पेट फूलना, सुखा मल, कमर और जोड़ों में दर्द, नींद न आना,आलस्य, की भी काम में अरुचि, अस्वच्छंदता, या फिर बवासीर होना, और मुंह में छाले, या फिर रक्तचाप का बढ़ना, गठिया, मुंहासे निकलना, आँखों में मोतियाबिंद आदि से भी इंसान में कब्ज की समस्या उत्तपन हो सकती है।

  1. गैस बनना | Acidity :

जिस रोगी को कब्ज की समस्या होती है वह अक्सर पेट की गैस की समस्या से भी परेशान रहता है। यह गैस रोगी के दिमाग में भी चढ़ जाती है जिससे रोगी को सिर दर्द होने लगता है।

  1. मुंह से बदबू | Bad Breath :

जिन लोगों को कब्ज की प्रॉब्लम होती है उनकी जीभ भी मटमैली हो जाती है और उनके मुंह से बदबू भी आनी शुरू हो जाती है और उनके मुंह का स्वाद भी बिगड़ जाता है। (आप चाहे तो ऐसे में लीवर का टेस्ट भी करवा सकते है).

  1. भूख न लगना | Not Feeling Hungry :

जिन लोगों को कब्ज की प्रॉब्लम होती है उन लोगों को भूख भी नहीं लगती है और उनका जी भी मिचलाता रहता है और रोगी की आँखों के नीचे काले धब्बे भी पड़ जाते हैं।

  1. उर्जा कम होना | less Energy :

जिन लोगों को कब्ज की समस्या रहती है उनकी मानसिक और शारीरिक उर्जा भी कमजोर हो जाती है जिसकी वजह से उनमें चिडचिडापन और आलस भर जाता है जिसकी वजह से उनके शरीर का रंग भी फीका पड़ जाता है।

Click here to read:-  10 Natural Home Remedies for Long and Thick hairs

कब्ज का घरेलू उपचार | Home Treatment of Constipation

कब्ज का एक इलाज त्रिफला चूर्ण भी है। रोगी एक चम्मच त्रिफला चूर्ण रात में गुनगुने पानी के साथ सोने से पहले लें। इस प्रकार से रोगी की कब्ज 100 % ठीक हो जाती है। त्रिफला चूर्ण से न जाने शरीर की कितनी बीमारीयां ठीक होती हैं। त्रिफला का सेवन अलग-अलग समय करने से भिन्न-भिन्न प्रकार के परिणाम आते है।

अगर आप रात में त्रिफला चूर्ण लेंगे तो वो पेट की सफाई करने वाला और बड़ी आंत की सफाई करने वाला शरीर के सभी प्रकार के अंगो की सफाई करने वाला होता है। 30-40 साल पुरानी कब्जियत को भी त्रिफला चूर्ण आसानी से दूर कर देता है|

  1. अजवाईन से उपचार | Treatment by Ajwain :

अगर आपका पेट साफ़ नही रहता है और आपको कब्जियत रहती है तो इसकी सबसे अच्छी दवा है अजवाईन। आप इसको गुड में मिलाकर चबाके खाओ और साथ में गरम पानी पी लो तो आपका पेट तुरंत साफ़ होता है,  या रात को खा के सो जाओ तो सुबह उठते ही आपका पेट साफ हो जाएगा|

  1. पानी पीना | Drinking Water :

कब्ज में रोगी को बहुत सी परेशानी का सामना करना पड़ता है इसलिए अगर आपको भी कब्ज की समस्या रहती है तो आपको दिन में कम-से-कम दस गिलास पानी अवश्य पीना चाहिए। ऐसा करने से रोगी को मलत्याग करने में बहुत आसानी रहती है और कब्ज की समस्या भी जल्दी ठीक हो जाती है।

  1. रेशेदार भोजन | Fiber Food :

जब भी आपको कब्ज की समस्या रहे तो रेशेदार भोजन आपकी कब्ज की समस्या को ठीक करने में बहुत मदद करता हैं। कब्ज की समस्या होने पर आप रेशेदार भोजन जैसे होल ग्रेन ब्रेड, ब्रैन सीरियल, कच्ची सब्जियां, ताजे फल इत्यादि का रोगी सेवन करना चाहिए।

  1. नींबू का सेवन | Drinking Lemonade :

जब भी किसी को कब्ज जैसी बीमारी होती है तो इसका मतलब है के आपके पेट में मल जम रहा है, जिसकी वजह से मलत्याग करने में बहुत तकलीफ होती है। अगर आपको लगता है के आपको भी यह समस्या है तो आप एक गिलास गुनगुने पानी में एक नींबू को अच्छे से निचोड़कर मिलाकर पी सकते हैं क्योंकि ऐसा करने से आपको मलत्याग में बहुत आसानी हो जाती है।

  1. दूध का सेवन | Drinking Milk :

जब किसी इन्सान को कब्ज की बीमारी होती है तो उसे रात के समय सोने से पहले एक गिलास गर्म दूध अवश्य पीना चाहिए इससे आपको मलत्याग में बहुत आसानी रहेगी और अगर मल आँतों से चिपकता हुआ हो तो आप दूध में अरंडी का तेल मिलाकर पिए, इस से मल त्याग करने में काफी सहायता प्रदान होगी|

  1. लहसुन का सेवन | Eating Garlic :

जिन लोगों को भी कब्ज की समस्या रहती है उनके लिए लहसुन का सेवन बहुत ही फायदेमंद साबित होता है ज्योंकि लहसुन मल को मुलायम कर देता है और मल को आँतों से निकालने में काफी मदद करता है। अगर आपको भी कब्ज की समस्या है तो आप भी लहसुन का सेवन कर सकते हो।

  1. मेथी का सेवन | Eating Methi :

अगर किसी को भी काफी समय से कब्ज की समस्या है तो वह मेथी का सेवन कर सकता हैं। वह मेथी के चूर्ण को गरम गुनगुने पानी में मिलाकर भी पी सकता हैं क्योंकि इससे पेट आसानी से धीरे-धीरे साफ होने लगता है। और आपकी कब्ज की समस्या आसानी से ठीक हो जाएगी।

  1. मुनक्का का सेवन | Eating Munnaka :

जिन लोगों को कब्ज की प्रॉब्लम होती है उन्हें रोजाना मुनक्के का सेवन करना चाहिए। आप चाहे तो मुनक्के का सेवन पानी में भिगोकर या दूध में मिलाकर भी कर सकते हैं| एक बात का ध्यान रखना के इसके सूखे सेवन के साथ पानी अवश्य पी ले, क्योंकि यह गरम होती है|

  1. बादाम का सेवन | Eating Almonds :

जिन लोगों को कब्ज की प्रॉब्लम रहती है उन्हें रात को सोने से पहले एक गिलास गरम दूध में एक चमच बादाम का तेल मिलाकर पीना चाहिए (अगर वह ऐसा कर सके)। इसे दस या पंद्रह दिन पिए, यह आपकी कब्ज की समस्या को ठीक कर देगा|

  1. संतरे का सेवन | Eating Orange :

कब्ज से छुटकारा पाने के लिए आप संतरों का जूस निकालकर प्रतिदिन पिए, यह आपकी पुरानी कब्ज की समस्या को आसानी से ठीक कर सकता है| संतरे का जूस बनाते समय इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि उसमें किसी भी चीज को न मिलाये जैसे के नमक, निम्बू या चीनी|

Click here to read:-  Top 10 Natural Products for Glowing Skin

कब्ज के अन्य उपचार | Other Treatment of Constipation

  1. एक गिलास गरम दूध में 1-2 चाम्मच घी मिलाकर रात को सोने से पहले पीने से भी कब्ज रोग में काफी फायदा होता है।
  2. नींबू कब्ज में बहुत ही गुण्कारी है। मामुली गरम पानी में एक नींबू निचोडकर दिन में ज्यादा नहीं तो 2-3 बार अवश्य पीना चाहिए।
  3. सुबह जल्दी उठकर एक लिटर गरम पानी पीकर 2 से 3 किलोमीटर घूमने/ सैर करने अवश्य जाएं।
  4. 3-4 अंजीर के फ़ल को रात भर पानी में भिगो के रखे और सुबह खाएं। इससे आंतों को गतिमान कर कब्ज का निवारण आसान होता है।
  5. एक कप गरम पानी मे 1 चम्म्च शहद मिलाकर पीने से भी कब्ज मिटती है।

कब्ज से बचाव के उपाय | Safety From Constipation

  1. बासी खाने व् बासी फलों का सेवन बिलकुल न करें, हमेश शुद्ध एवव् ताजे फलों का ही सेवन करें।
  2. जितना हो सके ज्यादा से ज्यादा पानी पिए|
  3. नशा जेसे सिगरेट, शराब इत्यादि का सेवन बिलकुल न करें।
  4. खाने को अच्छे से चबाचबा कर खाएं जिससे की भोजन आसानी से पेट में पच सके।
  5. सुबह-सुबह थोड़ी सेर अवश्य करे और योग करे जेसे के अनुलोम-विलोम , कपालभाती| इन दोनों योग क्रियाओ से कोई भी बीमारी आपके पास नहीं आ सकती और अगर कोई बीमारी है तो वो जल्द से जल्द ठीक हो जाएगी।

कब्ज में क्या खाएं | What to Eat in Constipation

जिन लोगों को कब्ज की समस्या रहती है उन्हें चोकरयुक्त आटे की रोटी, आटे की रोटी,  दलिया, भुना हुआ चना, टमाटर, पालक, बथुआ, मैथी, मक्खन, दूध, , अंजीर, रेशेदार सब्जियां, सेब, अंगूर, पपीता, मुनक्का, खजूर गाजर, मुली, चकुंदर, नींबू, संतरा, प्याज, खीरा, खिचड़ी, मूंग, अरहर की दाल, अमरुद, आम, खरबूजा, किशमिश, केला, अनार, बादाम, ककड़ी, शलगम, , शरबत, सूप, लस्सी, मट्ठा, मूली, पता गोभी पानी आदि का सेवन करना चाहिए। क्योंकि इनमे फाइबर प्रचुर मात्र में होता है जो पेट की आंतो को मुलायम बनता है और जमे हुए मल को आसानी से निकलता है|

Click here to read:-  5 Common Mistakes of Parents Which Cause Loss of Appetite in Children

कब्ज में क्या न खाएं | What Not Eat in Constipation

नान, सफेद ब्रेड, पिज्जा, गेंहूँ की रोटी, बर्गर, चाउमीन, मछली, अंडे, मीट, चावल, मसालेदार खाना, केला, सेब, प्याज, चीनी, मूली, दही, अधिक मात्रा में पानी, जंक फूड, फ़ास्ट फूड, मैदा आदि का सेवन नहीं करना चाहिए।

तो दोस्तों यह है कब्ज से जुडी पूरी जानकारी, जिसको जानकार आप खुद को इस बीमारी से दूर रख सकते है या घर पर ही आसानी से इलाज कर सकते है| किसी जानकार के कब्ज होने पर यह पोस्ट उससे अवश्य शेयर करे| हमे आपके कमेंट का इंतज़ार रहेगा|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *