क्रिसमस – त्यौहार, रीती-रिवाज, परंपरा, रेसिपी, सेहत, सजावट, उपहार और साफ सफाई

क्रिसमस – त्यौहार, रीति-रिवाज, परंपरा, रेसिपी, सेहत, सजावट, उपहार और साफ सफाई

loading...

क्रिसमस – त्यौहार, रीति-रिवाज, परंपरा, रेसिपी, सेहत, सजावट, उपहार और साफ सफाई

क्रिसमस को बड़ा दिन क्‍यूं कहते हैं | Why Christmas is called Big Day?

क्रिसमस (Christmas) या बड़ा दिन ईसा मसीह के जन्‍म की खुशी (happy) में मनाया जाने वाला पर्व है। आज कल क्रिसमस (Christmas) ईसाइयों का नहीं बल्‍कि गैर ईसाइयों का भी पर्व बन गया है। दुनिया (world) भर के अधिकतर देशों में यह 25 दिसम्बर को मनाया जाता है। क्रिसमस (Christmas) की पूर्व संध्या यानि 24 दिसंबर को ही जर्मनी तथा कुछ अन्य देशों (countries) में इससे जुड़े समारोह शुरु हो जाते हैं।

क्‍या आप भी क्रिसमस मनाते हैं? | Are You Celebrating Christmas?

अगर हां, तो क्‍या आपके मन में कभी यह सवाल नहीं उठा कि क्रिसमस (Christmas) को बड़ा दिन क्‍यूं कहते हैं? भारत (india) में क्रिसमस (Christmas) को बड़ा दिन कहने के पीछे कई अलग अलग मान्‍यताएं प्रचलित है। कहा जाता है कि पहले इसे रोमन उत्‍सव (roman festival) के रूप में मनाया जाता था इस दिन लोग एक दूसरे को ढेर सारे उपहार (gift) देते थे। जब धीरे-धीरे ईसाई (christian) सभ्‍यता पनपने लगी तब भारत (india) में यह दिन मकर संक्रान्ति के रूप में मनाया जाने लगा।

इसके अलावा बड़े दिन के पीछे प्रभू ईसा के जन्म (birth) से जुड़ी कई कथाएं भी प्रचलित हैं। 25 दिसंबर यीशु मसीह के जन्म (birth) की कोई ज्ञात वास्तविक जन्म तिथि नहीं है।

एन्नो डोमिनी काल प्रणाली के आधार पर यीशु (yeshu) का जन्म, 7 से 2 ई.पू. के बीच हुआ था भारत (india) में इस तिथि को एक रोमन पर्व यामकर संक्रांति से संबंध स्थापित करने के आधार पर चुना गया है जिसकी वजह से इसे बड़े दिन (big day) के नाम से मनाया जाने लगा। वैसे तो पूरी दुनिया (world) में इसे 25 दिसंबर को मनाया जाता है मगर जर्मनी में 24 दिसंबर को ही इससे जुडे समारोह (program) शुरू हो जाते हैं।

क्रिसमस (Christmas) के दिन संता क्‍लॉज (santa clause) का भी अपना अलग महत्‍व है, कहते हैं इस दिन सांता क्‍लॉज (santa clause) बच्‍चों के लिए ढेर सारे खिलौने और चॉकलेट ले कर आते हैं। क्‍या आपको को पता है कि लाल रंग के कपडे़ पहने संता क्‍लॉज को क्रिसमस (Christmas) का पिता भी बोला जाता है जो क्रिसमस (Christmas) वाले दिन ही आते हैं।

आपको एक दिलचस्‍प बात बताएं कि ईसा मसीह (isa masih) के जन्‍म की कहानी का सांता क्‍लाज की कहानी से कोई लेना देना नहीं है। कहते हैं कि तुर्किस्‍तान के एक शहर (city) के बिशप संत निकोलस सांता क्‍लॉज बन कर वहां पर बसे गरीब और बेसहारा बच्‍चों को तोहफे (gift) दिया करते थे। अब क्रिसमस (Christmas) को आने में कुछ ही दिन बचें है बाजारों में क्रिसमस (Christmas) गिफ्ट, कार्ड, सांता क्लॉज की टोपी, सजावटी सामग्री और केक (cake) मिलने भी शुरू हो गए है।

क्रिसमस ट्री और आपका स्‍वास्‍थ्‍य | Christmas Tree And Your Health

  • क्रिसमस (Christmas) ट्री आपके स्वास्थ के लिए हो सकता है नुकसानदायक।
  • इसके कारण क्रिसमस (Christmas) ट्री सिंड्रोम होने का खतरा रहता है।
  • आर्टिफिशियल पेड़ों से सर्दी-जुकाम (cough and cold) की बढ़ती है संभावना।
  • यह सांस की बीमारियों और एलर्जी (increase allergy) को बढ़ा सकती है।

क्रिसमस (Christmas) ट्री ही क्रिसमस (Christmas) की रौनक होती है, लेकिन क्‍या आपको पता है क्रिसमस (Christmas) ट्री आपके स्‍वास्‍थ्‍य के‍ लिए हानिकारक है। इसके कारण इंसोमिया (insomnia) और लिथर्जी जैसी बीमारियां हो सकती हैं। यदि आप चाहते हैं कि दिसंबर माह (december month) में आप तरोताजा रहें और फ्रेश हवा का मजा ले सकें तो आपको जरूरत है क्रिसमस (Christmas) ट्री से बचने की। सदाबहार क्रिसमस (Christmas) वृक्ष डगलस, बालसम या फर का पौधा होता है जिस पर क्रिसमस (Christmas) के दिन बहुत सजावट की जाती है।

क्रिसमस (Christmas) ट्री आपको बीमार कर सकता है। क्रिसमस (Christmas) ट्री के कारण आपको पहले से हो रहे संक्रमण, सर्दी-जुकाम (cough and cold) इत्यादि और बढ़ सकते हैं इसीलिए जरूरी है कि आप क्रिसमस (Christmas) ट्री से दूर ही रहें। यदि आपको हल्का सर्दी जुकाम भी है तो क्रिसमस (Christmas) ट्री के कारण ये इंसोमिया और लिथर्जी जैसी बीमारियों में बदल सकती है। इस मेडीकल कंडीशन को एक्सपर्ट्स ‘क्रिसमस (Christmas) ट्री सिंड्रोम’ के नाम से जानते हैं।

बढ़ते हुए क्रिसमस (Christmas) ट्री से निकलने वाली नकारात्मक ऊर्जा मनुष्य के शरीर और सांस संबंधी तंत्र पर नकारात्मक असर डालती है। क्रिसमस (Christmas) ट्री से 53 खुजली, कफ, चेस्ट पेन, सांस लेने की समस्या, आंखों से पानी बहना, नींद ना आने की समस्या (problems) होने लगी। इतना ही नहीं कुछ बढ़ते हुए क्रिसमस (Christmas) ट्री के मोल्ड से कई बार लंबे समय तक होने वाला लंग इंफेक्शन (infection) तो कई बार निमोनिया और ब्रोंकाइटिस जैसी बीमारियां भी होने का खतरा (danger) भी बढ़ जाता है।

हालांकि मोल्ड पेड़ों (mold tree) पर प्राकृतिक रूप से होते हैं और गर्मी में इनसे तेज गर्मी भी निकलती हैं लेकिन क्रिसमस (Christmas) ट्री पर अध्ययन करने से यह बात सामने आई कि क्रिसमस (Christmas) ट्री से सांस लेने संबंधी बीमारियां बढ़ जाती हैं। इस शोध (research) के दौरान उन लोगों का भी ट्रीटमेंट किया गया जो पहले से बीमार थे और क्रिसमस (Christmas) ट्री के संपर्क में आने से और बीमार पड़ गए थे।

क्रिसमस (Christmas) के दिन कुछ लोग मोमबत्ती भी जलाते हैं, जिनसे निकलने वाला धुआं (smoke) स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाता है।यही नहीं मोमबत्तियों को कभी भी क्रिसमस (Christmas) ट्री के पास नहीं रखना चाहिए, इन्हें कम से कम 15 सेंटीमीटर की दूरी (far) पर लगाना चाहिए।

कहने का अर्थ है यदि आप क्रिसमस (Christmas) ट्री से सेलिब्रेशन करना भी चाहते हैं तो अपने घर (house) के अंदर बहुम बड़ा क्रिसमस (Christmas) टी ना लाएं और ऐसा ट्री लेना चाहिए जो कि ज्यादा से ज्यादा हरा हो। यही नहीं क्रिसमस (Christmas) ट्री के स्टैंड को भी पहले जांच लेना चाहिए।

अगर आपने क्रिसमय (Christmas) की तैयारी पहले से नहीं कर रखी है तो आपके लिये यह काम थोड़ा मुश्‍किल (difficult) हो सकता है। लेकिन चिंता ना करें क्‍योंकि हम आपके लिये कुछ ऐसे टिप्‍स (tips) ले कर आए हैं, जिससे आपको आखिरी समय में मैनेज (manage) करने में आसानी होगी।

क्रिसमय के पहले अगर आप कुछ दिन पहले (few days) भी अगर हमारी बताई गई चीजें कर लेंगी तो भी आप क्रिसमस (Christmas) के दिन पर चिंता मुक्‍त रह सकती हैं। तो अगर आपने पहले से प्‍लानिंग (planning)  ना की हो तो आजमाइये हमारे बताए गए यह 6 जोरदार टिप्‍स।

ऐसा करने पर आपको इस बात का भी अनुभव (experience) हो जाएगा कि अगले आने वाले बड़े बडे़ त्‍योहारों पर किस तरह अरेंजमेंट्स (arrangement) की जाती हैं।

सफाई: Cleaning

आपके पास अब बहुत ही कम दिन बचे हैं इसलिये घर (house) के मेन एरिया पर ही फोकस करें तो ज्‍यादा अच्‍छा रहेगा। घर (house) में जो समान जरुरी नहीं है सबसे पहले उसे निकाल फेंके और बाद में घर (house) की अच्‍छे से डस्‍टिंग करें।

फ्रिज खाली करें: Fridge

फ्रिज अगर भरी हुई है तो इस समय जिन चीजों की आवश्‍यकता (need) ना हो उसे निकाल फेंके। इससे आपकी फ्रिज में क्रिसमस (Christmas) में बने व्‍यंजनों को रखने की काफी ज्‍यादा जगह हो जाएगी।

घर सजाएं: Home Decoration

एक बार जब आपने अपने घर (house) को कबाड़ मुक्‍त कर लिया हो, तब उसे सजाएं। अपने क्रिसमस (Christmas) आइटम को रेडी रख लें। घर (house) के अलग अलग हिस्‍सों को सजाने के लिये घर (house) के अन्‍य सदस्‍यों को थोड़ी-थोड़ी जिम्‍मेदारी बांट दें। इससे आप समय रहते हुए घर (house) सजा लेंगे।

ताजी सामग्री खरीदें: Buy Fresh Products

क्रिसमस (Christmas) के दो या तीन दिन पहले ताजी सामग्रियां खरीदें। जैसे फल और सब्‍जियां। क्रिसमस (Christmas) के दौरान न जाने कब सब्‍जियों और फलों की आवश्‍यकता (need) पड़ जाए, ऐसे में उन्‍हें अपने पास ही खीरद कर रख लें।

क्रिसमय ट्री की सजावट: Decoration Of Christmas Tree

अपने क्रिसमस (Christmas) ट्री को अपने फेमिली मेंबर्स (family members) के साथ मिल कर सजाएं। इससे आपके घर (house) में हंसी खुशी (happy) का माहौल जमेगा। साथ ही इससे फेमिली मेंबर्स (family members) तनाव मुक्‍त होंगे।

खाने का मीनू प्‍लानिंग: Menu Planning

क्रिसमस (Christmas)  पर खाने में क्‍या बनाना है इस बात पर अभी से ही चर्चा शुरु कर दें। अगर आप उस दिन कोई स्‍पेशल आइटम (special item) बनाने वाली हों तो इस बात का ख्‍याल रखें कि उसके लिये किन-किन सामग्रियों की आवश्‍यकता पड़ेगी। अपनी किचन (kitchen) की पैंट्री चेक करें और फिर आइटम की शॉपिंग लिस्‍ट तैयार करें।

इस क्रिसमस पर ये हेल्‍थी मेन्‍यू जरूर करें फॉलो | Healthy Menu For Christmas

  • ऐसा खाएं कि क्रिसमस (Christmas) के त्‍यौहार का परंपरागत (traditional) रूप भी बना रहे और सेहत भी।
  • पारंपरिक क्रिसमस (Christmas) भोजन में मीट का होना जरूरी माना जाता है।
  • पारंपरिक क्रिसमस (Christmas) डिनर में शर्करा और फैट की मात्रा काफी होती है।
  • आपको चाहिए कि काफी मात्रा में नॉन-अल्‍कोहलिक ड्रिंक्‍स शामिल करें।

क्रिसमस (Christmas) की रात खुशियों की रात होती है। जमकर केक और पेस्‍ट्री खाने की रात होती है। लेकिन, बिना सोचे समझे खाने का नतीजा अक्‍सर वजन बढ़ने (weight gain) की सौगात साथ लाता था। तो, फिर आखिर ऐसा खाया जाए कि क्रिसमस (Christmas) के त्‍यौहार का परंपरागत (traditional) रूप भी बना रहे और सेहत भी। क्रिसमस (Christmas) की रात टीवी के सामने बैठकर झपकियां लेना या क्रिसमस (Christmas) डिनर में इतना खा लेना कि बाद में सांस लेना भी दुभर हो जाए, अच्‍छा आइडिया नहीं है। ऐसे ही क्रिसमस (Christmas) पार्टी (party) के नाम पर सेहत को दरकिनार कर कुछ भी खा लेना भी अच्‍छी बात नहीं है। तो, चलिए हम आपको बताते हैं कुछ ऐसे फूड्स (foods) के बारे में जो क्रिसमस (Christmas) पार्टी (party) या डिनर के लिए बनाए जा सकते हैं और भी बिना किसी बड़े झंझट के ।

फैट और सॉल्‍टी को कहें न | Avoid Fatty and Salty Food

बाजार के फैट और नमक (fat and salt) से भरपूर खाने की जगह घर (house) पर ही बनाए बीटरूट डिप और एक कटोरी सूखे मेवों (dry fruits) को अपने आहार में शामिल किया जा सकता है।

मेन कोर्स | Main Course

चिकन की अगर ऊपरी परत (upper layer) उतारी गयी हो तो उसमें अतिरिक्‍त वसा नहीं रह जाती। इसमें प्रोटीन (protein) की प्रचुर मात्रा होती है। इसे बनाते हुए अधिक घी या तेल का उपयोग नहीं करना चाहिए। इसके साथ ही टर्की (turkey) नाम के एक पक्षी से बनी डिशेज भी इस मौके पर परंपरागत (traditional) रूप से खाई जाती हैं। इसमें अमीनो एसिड होता है। रोस्‍टेड टर्की (roasted turkey) खाने से परहेज करना चाहिए। खासतौर पर अगर इसे पारंपरिक (traditional) रूप से रोस्‍ट किया गया हो। हालांकि, भारत (india) में यह आमतौर पर नहीं मिलता।

सब्जियां हों भरपूर | More Vegetables

पारंपरिक क्रिसमस (Christmas) भोजन में मीट का होना जरूरी माना जाता है, जिनकी जगह सब्जियां खाई जा सकती हैं। अगर आप मीट (meat) खाना ही चाहते हैं तो आप मीट की मात्रा में कमी कर उसकी भरपाई सब्जियों (vegetables) से कर सकते हैं। हरी पत्तेदार सब्जियां इस मौसम में बहुतायत में पाई जाती हैं। उन्‍हें स्‍टीमिंग (steaming) के बाद इस्‍तेमाल किया जा सकता है।

कम करें मात्रा | Reduce Quantity

पारंपरिक क्रिसमस (Christmas) डिनर में शर्करा और फैट की मात्रा काफी होती है। इनसे बचने के लिए आप इनकी कम मात्रा (less quantity) का सेवन करें, तो ही बेहतर। इसके साथ ही सेहत (sehat) के लिए नुकसानदेह सॉस की जगह आप पौष्टिक और सेहतमंद तेल (healthy oil) का इस्‍तेमाल करें।

ड्रिंक्‍स | Drinks

क्रिसमस (Christmas) पार्टी (party) का अहम हिस्‍सा होती हैं ड्रिंक्‍स। तो, यहां इस बात का ध्‍यान रखें कि आप इसमें भी न सिर्फ अपनी बल्कि मेहमानों की सेहत (health of your guests) को भी नजरअंदाज न करें। इसके लिए आपको चाहिए कि काफी मात्रा में नॉन-अल्‍कोहलिक ड्रिंक्‍स (drinks) शामिल करें। ताजा फलों का जूस, बादाम शेक, मिल्‍क शेक आदि इन ड्रिंक्‍स का विकल्‍प (drink options) बन सकते हैं। इससे उन लोगों को भी राहत (relief) मिलेगी जो अल्‍कोहल का सेवन नहीं करते हैं। हां, इस पूरी कवायद में पानी (Water) को दरकिनार करना न भूलें।

रोस्टेड तुर्की- Roasted Turkey

क्रिसमस (Christmas) का डिनर बिना रोस्टेड तुर्की के अधूरा समझा जाता है. दूसरे फूड्स (other foods) के मुकाबले रोस्टेड तुर्की वजन कम करने में सबसे ज्यादा असरदार (effective) होता है. इसमें सैचुरेटेड फैट और कोलेस्ट्रोल की मात्रा बेहद कम (very less) होती है. जबकि, न्यूट्रिएंट्स जैसे प्रोटीन, जिंक, विटामिन बी, फास्फोरस और सेलेनियम भरपूर मात्रा (enough quantity) में पाए जाते हैं. प्रोटीन युक्त होने की वजह से ये फूड मांसपेशियों (muscles) के लिए भी फायदेमंद होता है.

मछली और सीफूड- Fish and Seafood

रेड मीट की जगह इस क्रिसमस (Christmas) पर मछली या सी-फूड का सेवन करना बेहतर होगा. इसमें भी कैलोरी की मात्रा कम और प्रोटीन (protein) भरपूर मात्रा में पाया जाता है. वजन कम करने वाले लोगों के लिए ये बेहतरीन फूड (better food) है. इसके अलावा इसमें जिंक भी पाया जाता है, जो इम्यून सिस्टम (immune system) को मजबूत बनाने और शरीर के विकास के लिए जरूरी होता हैं.

ब्रसल स्प्राउट- Brussels Sprout

इसमें कैलोरी की मात्रा बेहद कम होने के साथ-साथ विटामिन (vitamins) और मिनरल्स की मात्रा बेहद अधिक होती है. साथ ही ब्रसल स्प्राउट में फाइबर (fiber) भी अधिक मात्रा में पाया जाता है, जो पेट के लिए फायदेमंद साबित होता है, क्योंकि फाइबर (fiber) युक्त चीजों का सेवन करने से डाइजेस्टिव सिस्टम बेहतर तरीके (Ways) से काम करता है.

लाल पत्ता गोभी- Red Cabbage

लाल पत्ता गोभी (red cabbage) को बैंगनी पत्ता गोभी भी कहते हैं. इसमें भारी मात्रा में विटामिन और न्यूट्रिएंट्स पाए जाते हैं. कम कैलोरी (less calories) होने की वजह से ये वजन कम करने में भी असरदार साबित होती है. फेस्टिव सीजन (festival season) में इस सब्जी के सेवन से कई बीमारियों से सुरक्षित रहा जा सकता है, क्योंकि इसमें विटामिन-सी (vitamin C) मौजूद होता है, जो इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाता है.

अजवायन- Oregano

इस चीज की सबसे खास बात (special thing) ये है कि इसके सेवन से वजन कम होता है. इसमें फाइबर (fiber) मौजूद होता है, जो वजन कम करने में मदद करता है. इसका सेवन आप किसी भी सब्जी (vegetable) में डालकर कर सकते हैं.

याद रखें कि पार्टी (party) में ज्‍यादा खाने से बचें। अपने भोजन को लेकर एक संतुलन (balance) बनाए रखें।

क्रिसमस (Christmas) एक ऐसा त्योहार हैं जब उपहारों का लेन-देन सबसे अधिक होता है। इस मौके पर दोस्त आपस में एक-दूसरे को उपहार (gift) देते हैं। ईसाई धर्म का प्रमुख त्योहार क्रिसमस (Christmas) क्रिशचंस द्वारा मनाए जाने वाला ये एक ऐसा फेस्टिवल है जो दुनिया (world) के कोने-कोने में सब अपने हिसाब से अपने स्टाइल (sytle) में मनाते हैं। सर्दियों के मौसम में आने वाला ये फेस्टिवल अपने साथ खूब सारी खुशियां (happiness) लेकर आता है।

सभी बच्चे सांता के गिफ्ट्स (gifts) लाने का इंतजार करते हैं। ऐसा माना जाता है कि क्रिसमस (Christmas) ऐसा त्योहार है जब सब अपनी दुश्मनी भुलाकर एक-दूसरे को प्रेम (love) से भेंट देते हैं। सांता का लाल रंग भी प्रेम का प्रतीक (symbol) है। तो आप इस बार क्रिसमस (Christmas) पर अपने दोस्तों को क्या गिफ्ट (gift) देने वाले हैं। अगर अभी तक आपने अपने उपहार (gift) का चयन नहीं किया है तो हम आपको बताते हैं आप क्रिसमस (Christmas) के मौके पर अपने दोस्‍तों को गिफ्ट में क्या दे सकते हैं।

दोस्‍तों को दें ये हेल्‍दी उपहार | Healthy Gifts For Friends

क्रिसमस (Christmas) को लोग दिसंबर के पूरे महीने मनाते हैं पूरे महीने उत्साह और जोश से मनाते हैं हालांकि कई जगहों पर ये 25 दिसंबर को ही मनाया जाता है। क्रिसमस (Christmas) बिना उपहारों के फीका सा लगता है।

आप यदि अपने दोस्त को क्रिसमस (Christmas) गिफ्ट देना चाहते हैं, तो बुक्स एक अच्छा ऑप्शन है। यदि आपके दोस्त को बुक्स पढ़ने का शौक है तो आप इस क्रिसमस (Christmas) पर अपने दोस्त को एक अच्छी सी किताब भेंट देकर अपने दोस्त (friends) को खुश कर सकते हैं।

यदि आपके दोस्त को केक, पेस्ट्री बहुत पसंद है तो बिना देर किए इस क्रिसमस (Christmas) पर अपने दोस्त को सरप्राइज करने के लिए आप केक या पेस्ट्री (cake and pastry) ले जा सकते हैं, लेकिन केक या पेस्ट्री ले जाते समय ध्यान रखिए कि आप अपने दोस्त (friends) की पसंद की ही लेकर जाएं। आपको पता होना चाहिए कि चॉकलेट, बटरस्कोच, पाइनेप्पल, ब्लैकफॉरेस्ट, फ्रूट केक इत्यादि (etc.) में से आपके दोस्त को क्या पसंद है। वैसे फ्रूट केक हेल्दी डिश (healthy dish) हो सकती है।

चॉकलेट्स क्रिसमस (Christmas) का ऐसा उपहार (gift) जो आपके दुश्मन को भी खुश कर सकता है। आप अपने दोस्त (friends) को खुश करने के लिए अलग-अलग तरह की चॉकलेट्स के साथ, कैंडी और भी कई तरह जैली इत्यादि भेंट (gift) में दे सकते हैं।

आप अपने फ्रेंड्स (friends) को हेल्दी गिफ्ट देना चाहते हैं तो आप फलों की टोकरी (fruit bucket) दे सकते हैं जिसमें आप तमाम मौसमी फल रख सकते हैं। फल (fruit) ऐसी चीज होती है जिसे हर कोई पसंद करता है। सर्दियों के मौसम (winter season) में तो संतरा, सेब, अमरूद, केला, कीनू जैसे फल खूब मिलते हैं। मजे की बात ये हैं कि ये बहुत मंहगे (expensive) भी नहीं होते और आपकी पॉकेट आराम से ये गिफ्ट आपको एलॉव (allow) करेगी।

जूस पैक (juice pack) एक ऐसा बढि़या और हेल्दी गिफ्ट है जो आपके दोस्त (friends) को खूब भाएगा भी आप चाहे तो दो-तीन तरह के अलग-अलग जूस पैक (juice pack) भी दे सकते हैं या फिर एक जूस के डब्‍बे को भी पैक (pack) करके दे सकते हैं। ये आपके दोस्ते को फिट भी रखेगा और खुश (happy) भी करेगा।

कहने का अर्थ है कि यदि आप कोई भी गिफ्ट (gift) देने की सोच रहे हैं तो गिफ्ट ऐसा होना चाहिए जो उपयोगी हो। अगर उपयोगिता के साथ-साथ गिफ्ट (gift)  हेल्दी हो तो बात ही क्या।

सदियों से मनाएं जाने वाले पर्व, क्रिसमस (Christmas) में घर (house)-परिवार और दोस्‍त मिलते है, क्रिसमस (Christmas) ट्री को सजाते है और रंगीन माहौल में जश्‍न मनाते है। इस पर्व के बारे में कई लोगों के बीच काफी मिथक भी व्‍याप्‍त हैं हालांकि क्रिसमस (Christmas), दुनिया (world) का सबसे लोकप्रिय पर्व है जो हर देश (country) में धूमधाम से मनाया जाता है।

आइए जानते है कि क्रिसमस के बारे में क्‍या- क्‍या मिथक हैं और उनके पीछे की सच्‍चाई क्‍या है : –

सांता गोलमटोल, सफेद दाड़ी वाला होता है : Santa Is Fatty With White Beard

क्रिसमस (Christmas) के पर्व के दौरान आने वाले सांता (santa) को हम सभी जानते है। सांता (santa) के बारे में वास्‍तविक विवरण कहीं भी नहीं मिलता है। सांता (santa) की परम्‍परा सेंट निक, जो कि 4 सदी में एक डीमरे पादरी थे, से प्रभावित है, वह बच्‍चों (childrens) से बहुत प्‍यार करते थे और उनके लिए एक बोरी में तोफहों (gift) को भरकर लाते थे और सभी के बीच बांट देते थे। इसके बाद, दुनिया (world) के कोने-कोने के लेखकों ने सांता का कान्‍सेप्‍ट (concept of santa) बताया और हर जगह लोग सांता बनने लगे। आपको जानकर आश्‍चर्य होगा कि वास्‍तव (reality) में सांता, गोलमटोल नहीं थे और उनको दाड़ी भी नहीं थी।

क्रिसमस ट्री में आग जल्‍दी पकड़ती है : Christmas Tree Caught Fire Quickly

कई लोग ऐसा मानते है कि क्रिसमस (Christmas) ट्री जल्‍दी आग पकड़ता है। लेकिन ऐसा नहीं है, क्रिसमस (Christmas) असली हो या नकली, इसमें आग यूं ही नहीं लगती। नकली ट्री (fake tree) होने पर लाइट में कोई फॉल्‍ट आने पर जल (burn) सकता है।

क्रिसमस से ज्‍यादा लोकप्रिय ईस्‍टर है : Easter Is More Famous Than Christmas

क्रिसमय पर्व से जुड़ी कहानियां (stories) इसके महत्‍व को बताती है लेकिन ईसाई कैलेंडर अलग कहानी बताता है। उसके अनुसार, ईसाईयों (Christians) के लिए सबसे पवित्र दिन ईस्‍टर को होता है जब ईसामसीह जीवित (alive) हो उठे थे।

क्रिसमस पर ग्रीटिंग कार्ड भेजना एक परम्‍परा है : Giving Greeting Card Is Tradition In Christmas

हर साल क्रिसमस (Christmas) के दौरान लोगों और परिचतों को ग्रीटिंग कार्ड (greeting card) भेजना एक परम्‍परा है, ऐसा लगभग सभी लोगों का मानना है। लेकिन वास्‍तविकता (reality) यह है कि 19 वीं सदी की शुरूआत में व्‍यापारियों (businessman) ने एक नए व्‍यवसाय के रूप में इसे परम्‍परा (tradition) बना दिया।

क्रिसमस ट्री सजाना एक परम्‍परा है : Decoration Of Christmas Tree Is Tradition

क्रिसमस (Christmas) के पर्व के दौरान क्रिसमस (Christmas) ट्री को सजाना एक परम्‍परा माना जाता है हालांकि सच्‍चाई कुछ और है। 18 वीं सदी में जर्मनी में पहली बार क्रिसमस (Christmas) पर्व के दौरान एक पेड़ को सजावट के तौर पर अच्‍छी तरह से डेकोरेट (decorate) करके रखा गया। बाद में, 19 वीं शताब्‍दी में विक्‍टोरियन (Victorian) ने इसे अपना लिया और धीरे – धीरे यह चलन दुनिया (world) भर में शुरू हो गया।

क्रिसमस के दौरान निभाई जाने वाली रीतियां |  Customs in Christmas

क्रिसमस (Christmas), ईसाई धर्म का एक ख़ास पर्व होता है जो कि साल के अंत में 25 दिसम्‍बर के दिन मनाया जाता है। इस दिन सेंटा क्‍लॉज (santa clause) आते हैं और बच्‍चों को खुश करते हैं, घंटी बजाते हैं, गिफ्ट देते हैं। लोग अपने घरों में ट्री को डेकोरेट (decorate) करते हैं और पकवान आदि बनाकर उनका सेवन करते हैं।

वास्‍तव में क्रिसमिस (Christmas) इससे भी कहीं ज्‍यादा बढ़कर सेलिब्रेट (celebrate) किया जाता है। चूँकि इस दिन गॉड यीशु का जन्‍मदिन (birthday) होता है तो लोग पूरे उल्‍लास के साथ इसे मनाते हैं।

लेकिन कई रीति-रिवाज और परम्‍पराओं को क्रिसमिस (Christmas) के दौरान फॉलो किया जाता है। ये परम्‍पराएं, हर देश (country) में अलग होती हैं और इन्‍हें वहां के हिसाब से ही मनाते हैं। आइए जानते हैं इन परम्‍पराओं (traditions) के बारे में:

  1. वेब्‍बड क्रिसमस ट्री – Webbed Christmas Tree

इस रीति को यूक्रेन (Ukraine) में निभाया जाता है। कहा जाता है कि एक बार एक गरीब महिला (poor lady) के पास इतने पैसे नहीं थे कि वो एक क्रिसमस (Christmas) ट्री को डेकोरेट कर पाएं। जब उसके बच्‍चे ने सुबह ट्री (tree) को देखा, तो वो पूरा वेब से कवर था जो कि सुनहरा और चांदी (gold and silver) की तरह चमक रहा था।

  1. क्रिसमस पर स्‍वादिष्‍ट पकवान – Delicious Food On Christmas

पूरी दुनिया (world) में क्रिसमस (Christmas) पर स्‍पेशल पकवान बनाएं जाते हैं। स्‍मोक्‍ड टर्की, फ्रुअ केक, जेली पुडिंग (jelly duping) आदि को बनाना पसंद किया जाता है। लेकिन क्‍या आपने टुररॉन के बारे में सुना है। दरअसल, यह एक स्‍पेनिश डिश (spanish dish) है जिसे अंडे, बादाम, चीनी और शहद से बनाया जाता है। यह 16वीं सदी पुरानी है और इसे सिर्फ क्रिसमस (Christmas) पर बनाया जाता है।

  1. उपहार देना – Gift

क्रिसमस (Christmas) पर रिवाज है कि सेंटा क्‍लॉज, सभी बच्‍चों को उपहार (gift) देता है। इसके अलावा, प्रियजन भी उपहार (gift) देते हैं। यह रिवाज, लोगों के बीच आपसी प्रेम को बढ़ाता है।

  1. क्रिसमस ट्री को सजाना – Decoration of Christmas Tree

क्रिसमस (Christmas) से कुछ दिन पहले ही लोग क्रिसमस (Christmas) ट्री को डेकोरेट करने की शुरूआत कर देते हैं।

  1. रिंगिंग बेल्‍स – Ringing Bells

यह एक प्राचीन परम्‍परा है जिसमें क्रिसमस (Christmas) के दिन घंटी को बजाया जाता है। यह सर्दियों के दिनों में सूरज की रोशनी (sun rays) में एक संदेश के साथ बजाई जाती है ताकि लोगों में सदा, प्‍यार, आशा और उल्‍लास बना रहे। उनके जीवन में हमेशा खुशियां (happiness) रहें, जैसे सूर्य हमें रोशनी देता है, ठीक उसी तरह।

  1. क्रिसमस पर परम्‍परागत भोजन – Traditional Food on Christmas

क्रिसमस (Christmas) पर हर देश में अलग परम्‍परागत भोजन बनता है। पौलेंड (Poland) में विगिल्‍ला को बनाया जाता है जो साल के उल्‍लास को प्रदर्शित (displayed) करता है। वहीं इटली में सात मछलियों को बनाते हैं और मानते हैं कि इससे उनके घर (house) में सुख और समृद्धि आएगी।

क्रिसमस के बाद घर को करें ऐसे साफ | How To Clean House After Celebrating Christmas

Christmas या न्‍यू इयर की पार्टी (party) के बाद घर (house) की सफाई करना बहुत ही मुश्‍किल काम होता है। इस दौरान आपके दिमाग (brain) में काफी सारे विचार एक साथ चल रहे होते हैं। जैसे, क्‍या क्रिसमस (Christmas) ट्री पर लगाए जाने वाले सजावटी सामानों को फिर से प्रयोग किया जाए या फिर उन्‍हें फेंक (throw) दिया जाए। इसी तरह छोटे छोटे बरतनों को पूरे घर (house) के कोने से इकठ्ठा करना भी एक बड़ा सिरदर्द (headache) होता है। इसलिये हम आपके लिये लेकर आए हैं कुछ बडे़ ही सरल से टिप्‍स, जिनका प्रयोग कर के आप क्रिसमस पार्टी (Christmas party) के बाद होने वाली सफाई को आसानी (easy) से कर सकती हैं।

क्रिसमस के बाद घर को करें ऐसे साफ | Cleaning Ways After Celebrating Christmas

क्रिसमस ट्री:-Christmas Tree

अपने घर (house) की सफाई सबसे पहले क्रिसमस (Christmas) ट्री को साफ करके शुरु करें। पेड़ से सारी सजावट हटाएं। अगर आपने नकली पेड़ (fake tree) का प्रयोग किया था तो उसे पेपर या कपड़े से ढंक दें जिससे वह अलगे साल (next year) काम आ सके।

क्रिसमस सजावट:-Decoration of Christmas Tree

यदि आपने क्रिसमय ट्री (Christmas tree) की सजाव के लिये रिबन, बेल्‍स, डैंगल्‍स, पेपर लैंटर्न या अन्‍य सजावटी सामग्रियों (ingredients) का इस्‍तमाल किया था तो, उसे सुरक्षित एक डिब्‍बे में बंद कर के रख दें।

प्‍लेट की सफाई:- Plate Cleaning

जैसे ही आप अपना डिनर (dinner) खतम कर लेते हैं, ठीक उसी समय सभी बरतनों की सफाई कर लें। इससे आपके किचन (kitchen) में गंदे बरतनों का भंडार नहीं लगेगा।

डस्‍टबिन का प्रयोग:- Use Dustbin

अगर घर (house) पर पार्टी (party) रखी है तो, उस जगह पर डस्‍टबिन रखना बिल्‍कुल ना भूलें, नहीं तो महमान जहां पाएंगे वहीं कूड़ा (garbage) फेक कर चले जाएंगे। कार्पेट पर वाइन का दाग दरी पर अगर वाइन गिर जाए तो उसे साफ करना थेाड़ा (cleaning can be difficult) मुश्‍किल होता है। दाग को तुरंत ही पेपर से सुखाएं और उस पर नमक (salt) का छिड़काव करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *