खर्राटों से छुटकारा पाने के 15 नुस्खे

खर्राटों से छुटकारा पाने के 15 नुस्खे

loading...

खर्राटों से छुटकारा पाने के 15 नुस्खे

साधारणत: किसी भी व्यक्ति के अजीब और भयावह आवाजों से भरे खर्राटों का मज़ाक बनाना बेहद आसान होता है, पर सच्चाई यह है के पुराने समय से ही खर्राटों की समस्या से वयस्क जनसंख्या के तक़रीबन 45% तक लोगों को यह प्रॉब्लम प्रभावित करती है, और यह कई तरह के शारीरिक समस्याओं और भावनात्मक समस्याओं का कारण भी बन सकती है। खर्राटे लेना एक बहुत गंभीर समस्या है। यदि आप या आपका साथी इस मुश्किल से जूझ रहे है,  तो आप या आपका साहति बचाव के कुछ उपायों की मदद से आप रात में फिर से अच्छी नींद सो सकते है। आपको अपने या किसी अपने के खर्राटों के कारणों का पता लगाने और बचने के उपायो को खोजने के लिए इस आर्टिकल को पूरा पढना चाहिए|

Click Here to Read:-  24 Valuable Tips To Be A Good Father

जानिये क्या है खर्राटों का घरेलू उपचार

खर्राटों को कैसे रोके  

  1. खर्राटों का निदान खोजें:

ध्यान रखे के खर्राटे लेते समय आपका मुहँ हमेशा ही बंद रहता है या फिर खुला? खर्राटों के अलग-अलग  प्रकारों में अंतर जानने से ही आपको उस ख़ास प्रकार के खर्राटे के कारणों का निदान करने में आपको सहायता मिलेगी।

अगर आप बंद मुँह से खर्राटे लेते है तो इसका मतलब है के आपके खर्राटों का कारण आपकी जीभ होती है और कुछ अलग-अलग अभ्यासों और अपनी दिनचर्या के बदलावों की सहायता से आप इन खर्राटों की समस्या को आसानी से दूर कर सकते है|

खुले मुहँ से लिए खर्राटे आपको साइनस की समस्या या फिर बिस्तर में आपके लेटने के पोस्चर के कारण हो सकती है, और आपको इन सभी समस्याओं का निदान करके इसे मुसीबत से छुटकारा पाना होगा|

किसी भी स्थिति में या फिर आसान में खर्राटे लेना अश्वसन या फिर किसी अन्य महत्वपूर्ण समस्या का भी सूचक हो सकती है। इसके लिए आपको किसी अच्छे डॉक्टर से इलाज़ की आवश्यकता पड़ेगी।

  1. खर्राटों को बढ़ाने वाली किसी भी चीज से परहेज करें:

अगर आप सोने के पहले शराब, या फिर नींद की गोलियां, या कॉफ़ी और अधिक वसा वाला भोजन करने से आपके गले की मांसपेशियाँ कमज़ोर पड़ जाती हैं और इस कारण से आपका सां लेने वाली नाली पतली हो जाती और वह आपके खर्राटों को और बढ़ा देती है। और इसी प्रकार से अधिक मात्रा में खाना और फैटी खाद्य पदार्थ आपके डायाफ्राम पर जोर डालते है जिससे आपको साँस लेने में कठिनाई पैदा होती है|

ज्यादातर धूम्रपान भी खर्राटों का एक कारण हो सकता है और यह आपके स्वास्थ्य के लिए पूर्ण रूप से हानिकारक है। अगर आप धूम्रपान करते है और साथ ही खर्राटों की समस्या से भी जूझ रहे है, तो आपको इसे छोड़ने पर विचार करना होगा|

Click Here to Read:-  7 Indirect Ways to Ask for a Date

वजन कम की तरफ दे ध्यान:

आपके गले में पीछे की तरफ उपस्थित वसा ऊतक यानि के Fatty tissue भी साधारणत: खर्राटों का एक कारण होते हैं। अगर आप खर्राटों की मुसीबत से छुटकारा पाना चाहते है तो आपको अपने वजन को कम करने की तरफ भी ध्यान देना चाहिए और ऐसा करना आपकी सेहत के लिए अत्यधिक फायदेमंद हो सकता है।

अगर आप रेगुलर रूप से किसी भी दवा का सेवन करते हैं, तो आप अपने डॉक्टर से अन्य विकल्पों के बारें में पूछें। क्योंकि आपके द्वारा ली जा रही दवाई भी आपके खर्राटों को बढ़ाने के पीछे एक गंभीर कारण हो सकती है।

  1. बेडरूम को अधिक नमीदार बनायें:

डराईनेस अक्सर ही खर्राटों का इक कारण होती है, इसलिए जब भी हो तो सोने के पहले ह्यूमिडफाइअर नमक यन्त्र का उपयोग करे या फिर गर्म पानी से नहाये, इससे आपके नाक के द्वारा सांस लेने वाली नाली का मार्ग अधिक नम हो जाता है और यह आपके खर्राटों को आसानी से कम कर सकता है।

  1. म्यूजिक इंस्ट्रूमेंट या गाने का अभ्यास करें:

सुनने में आपको यह थोड़ा अजीब अवश्य लगता है पर गाना गाना या फिर किसी मुह से बजाये जाने वाली म्यूजिक इंस्ट्रूमेंट का अभ्यास करके आप अपने गले की मांसपेशी को मजबूत कर सकते है, और साथ ही साथ यह आपके गले के और मुँह के टिश्यू को भी मजबूत बनाता है|

गाना गाते वक़्त यह आपके गले के और मुँह की मांसपेशियों के अभ्यास द्वारा यह आपके गले को भी मजबूत बनाता है, जिससे के सोते हुए आपका गला शिथिल नहीं होता और आपको सांस लेने में कठिनाई पैदा नहीं होती।

जब भी अपने काम पर जाते हुए गाडी चला रहे हों, तो  रेडियो या म्यूजिक सिस्टम चालू करके स्वयं गाने की धुनों के साथ जितनी हो सके उतना जोर से चाहे गाना गायें (गाडी के शीशे बंद करके ही ऐसा करे, नहीं तो लोग आपको पागल समझ सकते है J। ऐसे ही दिन भर में ऐसा कई बार गाने से आप आसानी से अपने गले का व्यायाम कर सकते है और आप अधिक और अच्छी नींद ले सके सकते है|

अगर आप गायक नहीं है, तो आपको गले से सम्बंधित कुछ अच्छे व्यायाम का अभ्यास करना चाहिए। इसके लिए जितना संभव हो आप उतनी दे अपनी जीभ बाहर निकाले और फिर अपनी जीभ को आराम दें। इसे ज्यादा नहीं तो दस बार तो अवश्य दोहराएं।

और अब दूसरी एक्सरसाइज में एक बार फिर अपनी जीभ को बाहर निकालें, और जीभ से अपनी ठोड़ी को छूने का प्रयास करें। फिर बीच में रुक जाए। और अपनी नाक को छूने का प्रयास करते हुए इस प्रक्रिया को करें। इसे भी कम से कम दस बार दोहराए।

खर्राटे रोकने के आसान उपाय

अपने सोने की करवट को बदले

  1. सिर शरीर की तुलना में थोड़ा सा ऊपर को रखें:

अगर आप ज्यादातर पीठ के बल ही सोतें हैं तो आपको बिस्तर पर एकदम से सीधे और समतल सोने की जगह कुछ एक्स्ट्रा तकिये अपने सिर के नीचे रखने चाहिए जिससे के आपका सिर थोड़ा ऊपर को बना रहे। आप अपने बिस्तर के ऊपरी छोर के पायों के नीचे कुछ बोर्ड्स रखकर उसे ऊंचा कर सकते हैं। हर पाये के नीचे दो से तीन तक पुरानी फ़ोन की डायरी भी रख सकते है जिससे के पलंग को सही स्तर तक ऊपर उठाया जा सकता है।

Click Here to Read:-  10 Questions to Ask Before Getting Married

  1. एक करवट की तरफ सोने की कोशिश करें:

आपके द्वारा पीठ के बल सोने से आपकी जीभ और आपकी तालु आपके गले के पिछले हिस्से से चिपक सी जाती है जिससे के हवा के आने या जाने के मार्ग में बाधा बन जाती हैं।

टेनिस बॉल वाली ट्रिक का इस्तेमाल करके देखें: इसमें अपने सोने में इस्तेमाल की जाने वाली शर्ट के पीछे वाले हिस्से में आप एक टेनिस बॉल को सिलवा लें,  ऐसा करने से आपके लिए पीठ के बल सोना अत्यंत मुश्किल हो जाएगा.

  1. मुँह में रखे जाने वाले इंस्ट्रूमेंट का इस्तेमाल करे:

इन इंस्ट्रूमेंट्स को दन्त चिकित्सा उपकरण  या फिर मेंडीबुलर एडवांसमेंट स्प्लिन्टस के नाम से जाना जाता है, और यह साधारणतः प्लास्टिक के बने उपकरण होते है, जिन्हें के सोने के दौरान मुँह में लगाया जाता हैं,  जिससे के गले के मुलायम टिश्यूस को श्वसन मार्ग में शिथिल होकर बाधा उत्तपन करने या बनने से रोक दिया जाता है। यह उपकरण आपके निचले जबड़े को ऊपर की ओर रख के या फिर आपके तालु को ऊपर उठा देता है। ऐसे ही कुछ उपकरण आपकी जीभ को आपकी सांस नली पर टिकाकर इन्हें बंद करने से भी रोकते हैं।

आप अपने दंत चिकित्सक से इस प्रकार के उपकरणों के बारें में पता कर सकते है या निंद्रा सलाहकार से सलाह लें सकते है|

जानिये खर्राटों का देसी इलाज

साइनस की समस्याओं से कैसे बचे 

  1. बंद नाक का समाधान करें:

नाक में रुकावट भी खर्राटों का कारण हो सकती हैं, ऐसे में डॉक्टर द्वारा बताई गई दवाओं का भी प्रयोग करके देखें। और अगर आपको एलर्जी या फिर जुकाम होने आशंका हो तो इन्हे केवल अस्थाई उपायों के तौर पर ही लेंन चाहिए। ऐसे में अधिक समय तक दवाई का उपयोग आपको नुकसान पहुँचा सकता है।

आप चाहे तो गले और नाक की रुकावट को खोलने के लिए पिपरमिंट माउथवाश से कुल्ला करें। औअर अगर आपके खर्राटे सर्दी या फिर एलर्जी की अस्थाई वजहों से हैं, तो इस प्रकार के नुस्खे विशेष रूप से आपके लिए बहुत लाभकारी है।

बेडरूम के एलर्जी कारकों को कम करने के लिए आप अपनी चादर और तकिये को समय समय पर खोल कर धुप में रखते रहे ताकि उनकी साड़ी नमी निकल सके| अपने घर के फर्श को वैक्यूम क्लीनर से अच्छे से साफ़ करें और घर के पर्दों की भी समय समय पर धुलाई करवाते रहे|

Click Here to Read:-  21 Ways To Make Good And Healthy Relationship

  1. अपनी नाक को खुला रखने के लिए दवा की दुकानों पर उपलब्ध नेसल स्ट्रिप्स का उपयोग करें:

ये शायद देखने में अजीब लग सकते है, पर कौन देखता है?  पैकेट पर दिए गए निर्देशों का पालन करते हुए अपने नाक के बाहरी हिस्से पर एक स्ट्रिप लगाएं। यह आपके नाक के नथुनों को ऊँचा उठा कर और अच्छे से खोल कर हवा के प्रवाह को बढ़ाकर आपकी खर्राटों की मुश्किल में सहायता करता है।

एक्सपाईरेटरी पॉजिटिव एयरवे उपकरणों का उपयोग करें:

यह आपके नाक के नथुनों पर आपकी ही आपकी साँसों से कोमल दबाब बनाकर आपके नाक में हवा के मार्ग को खुला रखने में सहायक सिद्ध होता हैं।

  1. नेति क्रिया करें:

इस क्रिया से आपके नाक में जमे मैल को आसानी से बाहर निकाला जा सकता है। इस क्रिया को करने से आपको खर्राटों में काफी राहत मिलती है।

आप चाहे तो गुनगुने पानी से स्नान भी करके देख सकते हैं: गरम और नमीयुक्त हवा हमें साइनस से होने वाली बलगम को कम करती है और खर्राटों की सम्भावना को भी कम करती है।

सिरहाने को ऊँचा रखे:

ऐसा करने से बलगम आपके नाक में कम आएगा और आपकी नाक भी खुली रहेगी। जब आपकी नाक खुली हो तो आपको खर्राटे भी नहीं आयेंगे|

  1. साइनस:

अगर आप काफी लम्बे समय से साइनस बीमारी से पीड़ित हैं, तो आपको अपने चिकित्सक से बात करके अपने नाक को खोलने वाली दवा लेनी चाहिए। इस प्रकार आप संक्रमण कम करके अपने खर्राटे को आसानी से कम कर सकते हैं।

अपने साथी से करें खर्राटों के बारे में बात   

  1. बात करने के लिए सही समय चुनें:

आधी रात में या फिर बैचैनी से भरी रात में जागने के तुरंत बाद आप अपने साथी से खर्राटों पर बात करना आपके लिए बहस या फिर असंतोष का कारण बन सकता है। सोने के समय गुस्से से भरी बातचीत को टालना ही बेहतर है और ऐसे में केवल सौम्य माहौल में ही बातचीत करें।

अगर आपके सहयोगी के खर्राटे लम्बे से हैं  तो आप उनसे रात के खाने के बाद जब भी आप सोने की तैयारी कर रहे हों तब आप उन्हें अपनी समस्याएं से अवगत करवाए और उस इस प्रॉब्लम को सुलझाने के लिए बात करें।

Click Here To Read:-  15 Ways to Become a Better Person

  1. खर्राटे एक शारीरिक समस्या है:

अगर आप खुद खर्राटों से पीड़ित हों या फिर आपका साथी,  हमेशा याद रखे के इसमें शर्मिंदा होने या नाराज होने की बिलकुल भी बात नहीं है। यह निर्णय खर्राटे लेने वाले का खुद का नहीं होता, बल्कि यह तो केवल एक ऐसी शारीरिक समस्या है जिसे आप थोड़े से ध्यान रखने से ही के दूर कर सकते है|

अगर आप खर्राटों की समस्या से परेशां है और आपका साथी इसे लेकर आपसे शिकायत करता है तो आपको इस परेशानी को गंभीरता से लेना चाहिए। और अगर आप खर्राटों के दरमियाँ सोते हैं तो आपको अपने साथी की बात पर ध्यान देना आवश्यक है|

अगर आपका साथी लम्बे समाया से खर्राटों से ग्रस्त है तो आपको जल्द से जल्द इस मसले पर बात करनी चाहिये। पीठ पीछे किये जाने वाले उपाय जैसे के शोर से बचने के लिए इयर प्लग का इस्तेमाल आपके साथी को और अधिक शर्मिंदा महसूस करवाएगा|। आपको इस बारे में बात करनी चाहिए और मिल कर इसका उपाए खोजना चाहिए|

  1. गंभीर मसलों पर चोकन्ना रहें:

खर्राटों पर बात करना आपको अनजाने में ही धूम्रपान, या शराब पीना, या अधिक वजन या फिर ऐसे ही किसी अन्य संवेदनशील कारण की ओर भी आसानी से ले जा सकता है जिसका असर आपके संबंधों पर भी होता हो। आपको अपनी बातचीत के दायरे को लेकर हमेशा सजग रखना चाहिये और सोच समझ कर बहुत चतुराई से अपनी बात रखनी चाहिए|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *