जानें गॉल ब्‍लैडर शरीर से निकालने पर क्‍या होता है

जानें गॉल ब्‍लैडर शरीर से निकालने पर क्‍या होता है

loading...

जानें गॉल ब्‍लैडर शरीर से निकालने पर क्‍या होता है

कई बार डॉक्टर (doctor), पित्‍ताशय में पथरी  यानि के गॉल ब्‍लैडर (stone) की समस्‍या के गंभीर हो जाने पर पित्‍ताशय (gall bladder) को निकाल देने की सलाह देते हैं। अगर आपके शरीर (body) से पित्‍ताशय को निकाल दिया जाये, तो जानिए क्‍या (what) होगा।

पित्‍ताशय में होने वाली पथरी (stone), शरीर (body) को क्षति पहुँचाती है और रोगी को असहनीय दर्द (immense pain) होने लगता है। ऐसे में कई बार डॉक्टर (doctor) ऑपरेशन या अन्‍य उपचारों से उसे निकाल देते हैं। परन्‍तु समस्‍या के गंभीर (serious) हो जाने पर कई बार पित्‍ताशय को निकालने की सलाह (suggestion) भी दी जाती है।

आपको बता दें कि पित्‍ताशय की थैली, पाचन (digestion) प्रक्रिया में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाती है। ऐसे में इस बात पर भरोसा (trust) कैसे किया जा सकता है कि पित्‍ताशय को निकाल देने पर शरीर (body) की प्रक्रिया में किसी प्रकार का कोई प्रभाव (effect) नहीं पड़ेगा।

लेकिन अगर पित्‍ताशय में पनप रहा स्टोन (Stone) यानि पथरी (stone) ही पाचन (digestion) की क्रिया पर नकारात्‍मक प्रभाव (bad effect) डालती है तो डॉक्‍टर्स को अक्‍सर ये निर्णय लेना पड़ता है। कई रोगी (patients), जिनका पित्‍ताश्‍य निकाला जा चुका है, दावा करते हैं कि इस सर्जरी के बाद पाचन (digestion) क्रिया में कई बदलाव आ जाते हैं।

पित्‍ताशय, पाचन (digestion) ट्रेक्‍ट से आने वाले बेकार तत्‍वों और लिवर (liver) से आने वाले बाइल को स्‍टोर (store) करता है।, जब पित्‍ताशय निकल जाता है तो लिवर (liver) से निकलने वाला बाइल सीधे छोटी आंतों (small intestine) में चला जाता है।

पित्‍ताशय (gall bladder) के न होने से छोटी आंत में इसके आने से लिवर (liver) और उसके बीच की प्रक्रिया में कुछ समय के लिए दिक्‍कत (problem) आती है। जिसकी वजह से कई बार रोगी (patient) को डायरिया भी हो जाता है। इसे क्‍लेसिस्‍टॉमी सिंड्रोम भी कहा जाता है, जो कि पित्‍ताशय (gall bladder) निकलने के बाद कुछ दिनों तक रहता है।

आम धारणा के विपरीत, आपका पित्‍ताशय (gall bladder) निकालने के बाद भी आपकी पथरी (stone) शरीर (body) में रह सकती है। यह आपके ऑपरेशन से पहले बाइल (bile) में प्रवेश करने के कारण (reason) बनी रह सकती है। इसका मतलब, ऑपरेशन करवाने से आपको सिर्फ दर्द में राहत मिलती है, जरूरी नहीं है कि पथरी (stone) भी निकल ही जाएं।

आपको बता दें, पित्‍ताशय (gall bladder) निकालने के कुछ सालों बाद आपको स्टोन (Stone) की समस्‍या फिर से होने की संभावना (possibility) बनी रहेगी। इसके लिए, आपको हेल्‍दी लाइफस्‍टाइल और डाइट (diet) को लेना होगा। तेल-मसाले युक्‍त भोजन से बचें।

नियमित रूप से डॉक्टर (doctor) से चेकअप करवाते रहें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *