डिप्रेशन से छुटकारा अपनाएं ये आसान घरेलू नुस्खे

डिप्रेशन से छुटकारा अपनाएं ये आसान घरेलू नुस्खे

loading...

डिप्रेशन से छुटकारा अपनाएं ये आसान घरेलू नुस्खे

डिप्रेशन से छुटकारा – जब आप खुद को ही खुद से अलग कर देते हैं तो यह लक्षण है डिप्रेशन (depression) का। यह एक ऐसी बीमारी (disease) है जो किसी को भी, कभी भी अपने घेरे में ले सकती है। कुछ लोग तो इस डिप्रेशन (depression) नामक बीमारी (disease) को झेल नहीं पाते हैं और आत्महत्या (suicide) जैसे कदम उठा लेते हैं। इसकी लाख दवा (medicine) भी लोग खा लें, लेकिन जब तक वह खुद इस बीमारी (disease) से निजात नहीं पाना चाहेंगे तब तक यह रोग (disease) भी उनका दामन नहीं छोड़ेगी।

डिप्रेशन (depression) किसी बीमारी (disease) का नाम नहीं है और न ही यह कोई दिमागी फितूर होता है। यह एक ऐसी मानसिक हालत (mental situation) होती है, जिसमें इन्सान की सोचने समझने की शक्ति (power) कम हो जाती है। वह किसी भी प्रकार का सही डिसीजन नहीं ले सकता। देखा जाए, तो डिप्रेशन (depression) ने एक बीमारी (disease) का रूप धारण कर लिया है जिसने बच्चों से लेकर बूढों (old peoples) को अपनी चपेट में ले लिया है। इसका मुख्य कारण (main reason) होता ही दुःख। जब भी हम अधिक दुखी (tense) हो जाते हैं तो हम अपना मानसिक संतुलन खो देते है जिसके कारण हम डिप्रेशन (depression) के शिकार हो जाते हैं। हमें कई तरह के डिप्रेशन (depression) का सामना करना पड़ सकता है जैसे कि :-

डिप्रेशन के प्रकार | Types Of Depression

मेजर डिप्रेशन | Major Depression

जब भी किसी का साथ अचानक (sudden) छुट जाता है, तो आप इसे इमोशनल डिसऑर्डर (disorder) कह सकते हैं। जब भी आप मेजर डिप्रेशन (depression) में होते हो, तो आप खुदकुशी की हद (limit) तक जा सकते हो।

Click here to read:-  10 Natural Treatments To Coming Out From Depression

टिपिकल डिप्रेशन | Typical Depression

यह ऐसा डिप्रेशन (depression) होता है जिसमे इन्सान अपनी ख़ुशी या गम को किसी के साथ शेयर (share) नहीं करता।

साइकाटिक डिप्रेशन | Psychiatric Depression

यह ऐसी हालत (situation) होती है जिसमे रोगी को अनजान आवाजें सुनाई देती है, साथ ही काल्पनिक चीजों (things) में उसे यकीन होने लगता है, उसे शक करने की बीमारी (disease) हो जाती है और वह खुद से ही बाते (talk) करने लगता है।

डिस्थायमिया | Dysmethemia

जिन्दगी (life) तो समान्य चल रही होती है, लेकिन वो अक्सर उदास (sad) रहते हैं वह अपनी लाइफ को इंजॉय (enjoy) नहीं करते। यह उदासी लगातार एक वर्ष से चली आ रही है तो इसे डिस्थायमिया कहते हैं।

डिप्रेशन से छुटकारा क्या करे क्या न करें | What To Do And What Not Do In Depression

पोस्टपॉर्टम | Postpartum

जब भी महिलाओं (ladies) की डिलीवरी होती है, तो कई बार महिला डिप्रेशन (depression) में चली जाती है। ऐसे डिप्रेशन (depression) को हम पोस्टपॉर्टम डिप्रेशन (depression) कह सकते हैं

मेनिया | Mania

ऐसा हम चाहते है वैसा न हो तो ऐसे में अक्सर मायूसी (sadness) आ जाती है। इसमें व्यक्ति की भावनाओं (feelings) तथा संवेग में कुछ समय के लिए असामान्य (normal) परिवर्तन आ जाते है, जिनका प्रभाव उसके व्यवहार, सोच और निद्रा (sleep) पर पड़ता है।

Click Here To Read:-  How Does PubG Affect Our Life In Real? Know Positive and Negative Effects of the PubG

डिप्रेशन के लक्षण | Symptoms of Depression

  1. यादाश्त का कमज़ोर (weak) होना।
  2. काम में दिल (dil) न लगना।
  3. बिना बात पर क्रोधित (angry) होना।
  4. सोचने की क्षमता (capability) कम होना।
  5. मन में अपने बारे में बुरे विचार (bad thoughts) आना।
  6. पूरी नींद (sleep) न आना।
  7. जीवन (life) को खत्म करने का मन में विचार आना।
  8. अपना बिल्कुल भी ध्यान (care) न रखना।
  9. मुंह का सुखना, सिरदर्द (pain), जोड़ो में दर्द (pain) का होना आदि डिप्रेशन (depression) के लक्षण होते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *