इन 5 तरह के दांतों का इलाज कराएं बहुत सावधानी से

इन 5 तरह के दांतों का इलाज कराएं बहुत सावधानी से

loading...

इन 5 तरह के दांतों का इलाज कराएं बहुत सावधानी से 

यदि आप अपने दांतों की अच्छी देखभाल नहीं करते हैं, तो दांतों और मसूड़ों की बीमारियां आपको समय समय पर परेशान करती रहती है। इसके साथ- साथ आप दांतों के इलाज में सावधानी के लिए यह आर्टिकल अवश्य पढ़े.

इलाज से बेहतर है देखभाल

अपने दांतों का ख्याल रखना बहुत महत्वपूर्ण है। अपने दांतों की नियमति जांच करे और अच्छे से ब्रश करे| दांत और मुंह की समस्या से यह भी प्रतीत होता है के आपके शरीर में कुछ और भी समस्या है। यदि जीवाणु हमारे दांतों की कठोर सतह पर चिपक जाता है जिसे प्लाक कहा जाता है, हमारे दांतों के चारों ओर बनना शुरू हो जाते है|

दंत चिकित्सा के उपचार में सावधानी

अक्सर, दांत में दर्द या मसुडो के कारण हम दर्द में डॉक्टर की सलाह लेते है, जो के एक बेहद सही कदम है और कई बार ये उपचार आवश्यक भी होते हैं। पर, इसके बारे में जानकारी की कमी आपको परेशानी में डाल सकती है। इसलिए, अपने इलाज के बारे में पूरी जानकारी लें।

दांत साफ करना

ब्रश करना स्वस्थ दांतों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप रेगुलर डेंटल ट्रीटमेंट के लिए न जाए | 6 महीने में कम से कम 1 बार डॉक्टर के पास ज़रूर जाये और अगर डॉक्टर को लगता है कि आपको इलाज की ज़रूरत है तो इलाज केवल तभी किया जाए।

1 एक्स-रे

एक्स-रे भी मुंह के अंदर की हड्डी दिखाते हैं। इस से कैविटी  का पता चला है। एक्स-रे को देखने के लिए, दंत चिकित्सक आपके मुंह के अंदर देखने के लिए एक्स-रे मशीन का उपयोग करता है और एक विशेष फिल्म आपको मुह में डालने को देता है। दंत चिकित्सक आमतौर पर एक्स-रे करते है जिन्हें आप भी कुछ मिनटों बाद देख सकते। यदि एक्स-रे ऑपरेटर बार-बार आपके दांतों का एक्स-रे करता है तो यह आपके लिए खतरनाक है। जायदा एक्स-रे से आपको ब्रेन ट्यूमर होने का खतरा बना रहता है।

Click Here to Read:- The Ultimate Advantages of Massage Therapy For Athletes

2 बच्चो के दांत का इलाज

बच्चों के दांतों के इलाज के दौरान, डॉक्टर अक्सर उन्हें बेहोशी का इंजेक्शन देते हैं ताकि बच्चों को ज्यादा परेशानी न हो। असहनीय दर्द से बचने के लिए मरीजों को बेहोशी का इंजेक्शन दिया जाता है। लेकिन अगर कोई बड़ी प्रॉब्लम नहीं है, तो बिना बेहोशी के इंजेक्शन के ही इसका इलाज करने का प्रयास करें। फिर भी अगर कुछ प्रॉब्लम लगे तो पैन किलर का टिका लगवा सकते है|

3 रूट कनाल

रूट कनाल एक उपचार है जिसमे क्षतिग्रस्त या संक्रमित दांतों को हटाने के बजाय इसकी मरम्मत की जाती है। ” रूट कनाल” शब्द दाँत की जड़ के अंदर की सफाई से आता है। अक्सर हम सोचते हैं कि रूट कनाल के बजाय, केवल दावा खाने से ही इसका इलाज हो जाए, पर ऐसा संभव नहीं है। दवाएं केवल आपके दर्द को कम कर देगी, पर इस से संक्रमण खत्म नहीं होगा| रूट कनाल करवाने से पहले, इसके बारे में विस्तार से डॉक्टर से परामर्श लें। अपने दांतों की स्थिति के अनुसार ही दांतों का इलाज करवाए|

4 डेंटल क्राउन

अगर दांत थोड़ा सा कहीं से टूटा हुआ होता है या दाँत का रंग बदल जाता है तो ऐसे में दांत पर एक पतली परत चढ़ाई जाती है। जिसकी मोटाई सामान्य 3-5 मिलीमीटर होती है। यह एक गोंद होता है जो दांत के साथ चिपक जाता है। पर यह इलाज यह स्थायी नहीं है। इसे समय-समय पर दोहराया जाना है। डेंटल क्राउन इस्तेमाल करने के लिए अपने दांतों के डॉक्टर से अच्छे से परामर्श कर ले.

5 सावधानीपूर्वक चुनें अपना खाना

स्नैक्स से जितना संभव हो उतना बचें, क्योंकि स्नैक्स में इस्तेमाल किए गए मसाले दांतों में प्लेक का गठन करते है, जो जल्द ही दांतों में प्लैक का कारण बनता है। चॉकलेट और अन्य मीठे खानों से बचे। पनीर और दूध स्वस्थ दांतों के लिए अच्छे हैं। मीठे को कम खाना चाहिए हरी सब्जियों को ज्यादा खाना चाहिए, कोल्ड ड्रिंक या पैक्ड जूस की जगह ताजे फलो का रस या पानी ही पीना चाहिए क्योंकि पैक्ड फ्रूट जूस में एसिड और शर्करा होते हैं, जो दांतों को नुकसान पहुंचाते हैं और ऐसे में दांतों का इलाज करवाना ज़रूरी हो जाता है.

दांतों का इलाज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *